Skip to main content

Posts

खुबसुरत सोच। beautiful think 🇨🇮🙏🏻💐☝

#EDMranjit
खुबसुरत सोच। beautiful think 🇨🇮🙏🏻💐☝
जिंदगी बहुत खुबसुरत हैं अगर आप इसे अपने खूबसूरत नजरिये से देखो तो। और एक बात।दुनियाँ की बीन परवाह किये खुद को साबित करो आपके प्रति फिर दुनियां का नजरिया भी खुबसुरत हो जाऐगा।
Life is very beautiful, if you look at it from your beautiful point of view then one more thing. Regardless of the world, prove yourself, then the world will also become beautiful towards you.

खुबसुरत सोच। beautiful think 🇨🇮🙏🏻💐☝ Www.Edmranjit.com
11/08/2019

देश को मिला जब एक अद्भुत सितारा। 🇨🇮🙏🏻☝💐

#EDMranjit
देश को मिला जब एक अद्भुत सितारा। 🇨🇮🙏🏻☝💐देश को मीला जब एक । अदभुत सितारा। बहुत ही निडर प्रधान हमारा। सूनी थी कब से माँ भारती की गोद। मीला अब जाकर माँ से लाल हमारा। ।। वो डरता नही बस बढता ही जाता। बस देशहित का वो धर्म निभाता। अभी तो किया है शुरू उसने काम। पकड़े है एक एक चोरों के कान। ।। नही उसको लालच ना सता की भुख। ना पहने है  खादि ना पहने है शुट। रहता है सादा और कहता है सीधा। सुनो लालची बिदेशी कपूत। ।। दिया उसने टाइम देशहित मे सारा। लुटेरों की गद्दी को जड़ से उखाडा़। जो खाते थे सता की गलियों से रोटी। सारे नोटों को उनके कचरा बनाया।। ।। अभी करी है बस थोड़ी सफाई। कमीनो को थोड़ी सजा है दिलाई। बचोगे नही अब चाहें छुप लो कही तुम। गरीबों के राजा की बारी है आई। ।। कहते है साधु संत और फकीर। मोदी है भारत माँ का बीर। करेगा वो भारत को सोने की चिड़िया। ली है उन्होंने प्रतिज्ञा अडिग। ली है उन्होंने प्रतिज्ञा अडिग।। 
देश को मिला जब एक अद्भुत सितारा। 🇨🇮🙏🏻☝💐 ।poetry  ranjit choubeay Www.edmranjit.com 11/08/2019 ।।जय माँ भारती।।

एक तरफ आजादी एक तरफ भ्रष्टाचार आप किसके साथ हो।।Independence on the one hand and corruption on the other, with whom are you?🇨🇮🙏🏻☝💐

#EDMranjit
एक तरफ आजादी एक तरफ भ्रष्टाचार आप किसके साथ हो।।Independence on the one hand and corruption on the other, with whom are you?🇨🇮🙏🏻☝💐 मित्रों एक देश एक मत सुनने मैं कितना सुंदर लगता हैं।
तो क्या आप भी ऐसा ही सोचते हो। 
और अगर सोचते हो तो इसके लिये क्या फैसले खुद से लेते हो। 
आजादी को सलाम करते हो हर पन्द्रह अगस्त को और फिर कुछ देश भक्ति गीत आपको अच्छे लगते हैं बस यहीं सब तो करते हैं हम सब। दिन बीत जाता है आजादी का यही मतलब होता है आज देश के लगभग प्रत्येक व्यक्ति का।। 

मित्रों आजादी के लिये क्या क्या हुआ हम सभी जानते हैं । दुख की बात है बस जानते ही है पर खुद से कुछ भी नहीं करते क्या आप इस स्वतंत्रता दिवश से कुछ करना चाहोगे। अपने देश अपने समाज और स्वयं खुद के लिये।। 

एक भगत सिंह ने ऐसी लौ जला दि थी सारा देश उस वक्त एकजुट होकर आजादी की लड़ाई में हिस्सा ले रहा था। क्या उसके बाद कोई भगत सिंह ही नहीं हुआ ऐसा सोचना मातृभूमि के लिये गलत होगा। मित्रों भगत सिंह तो आज भी बहुत हम सबके बीच में रहते हैं  बस वो लौ जलाने वाले किरदार को हम पहचान नहीं पाते। सही दिशा में बहने वाली हवा की तरफ हम…

एहसास के धागे स्नेह बंधन रक्षाबंधन। 🇨🇮👏🙏🏻🙏🏻

#EDMranjit
एहसास के धागे स्नेह बंधन रक्षाबंधन। 🇨🇮👏🙏🏻🙏🏻रिस्तों के दामन में लिपटा एहसास का। 
बंधन हैं आया। 
कभी लड़कर कभी झगड़कर खेले हैं  दोनों। 
वो साथ रहकर एक साये की तरह सीखें हैं दोनों। 
वक्त के साथ एक दुसरे की आदत थे दोनों। 

कभी एक था गलत तो दुसरे ने बचाया। 
तो कभी उसने भी वक्त पर उसे समझाया। 
बचपन से एक दूसरे के पुरक रहे हैं। 
भाई बहन एक दुसरे बीन अधुरे रहे है।। 

बचपन बीतता गया रिस्ता समझ आता गया। 
भाई की कलाई पर बहन के धागे का सुनहरा। 
वो रक्षा कवच गहराता गया। 
दुनियां का सबसे मजबुत रिस्ता यही होता है।। 
हर बहन सुरक्षित रहे यही उसका भाई सोचता हैं।।

दुनियाँ में हजारों बंधन जरूर होते हैं। 
सबकी जिंदगी में रिस्ते भी बहुत होते हैं। 
पर एक कोमल रिस्ता जो रक्षाबंधन बन जाता है। 
एक ऐसा बंधन  है जो आजीवन कवच बन जाता है। 
Poetry ranjit choubeay.

एहसास के धागे स्नेह बंधन रक्षाबंधन। 🇨🇮👏🙏🏻🙏🏻
रक्षा बंधन पर सभी भाई बहनों को अनेक अनेक शुभकामनाएं।। इन एडवाँस। 
Edmranjit.com 09/08/2019



मेरी पहली पंचायत/भाग 4/my First panchayat /

#EDMranjit
मेरी पहली पंचायत/भाग 4/my First panchayat /
गाँव में पुल का काम तेजी के साथ चल रहा था और में  खुद भी हर पल वहीं रहकर सब काम देख रहा था। आज गाँव में कलेक्टर सर भी विजिट के लिये आने वाले थे इसलिये पुरा गाँव भी बहुत उनसे मिलने के लिये उत्सुक था। 

दिन के कोई एक बजकर तीस मिनट हो रहे थे अचानक से पुलीस सायरन की आवाज़ सुनाई देने लगी मतलब साफ था कलेक्टर सर की गाड़ी गाँव की तरफ आने वाली सड़क पर आ चुकी थी। उनके साथ गाडि़यो का काफिला भी था जैसे जैसे गाडि़या गाँव की तरफ बढ़ रही थी गाँव वालो की धड़कनें भी तेज हो  रही थी। 

गाँव के लोगों ने उनके लिये काफी अच्छा इंतजाम भी किया था उनके कुछ टाईम रुककर बात करने के लिये गाँव वालों ने पुल निर्माण स्थल के समीप ही एक आम के बगीचें  में बीचोबीच सुंदर सा टेंट लगवा कर कुछ चैयर का इंतजाम किया था। और एक हलवाई बुलवाकर् कुछ नास्ते का भी जबरदस्त इंतजाम था। 

मेंने पहली बार किसी सरकारी कुर्सी वाले अफसर के लिये गाँव वालों की नजर मैं इतना प्रेम देखा था इसके पिछे भी एक लाँजिक था। और वो बात थी कलेक्टर सर से मेरी मीटिंग वाली बात गाँव वालों के समक्ष मेंने प्रस्तुत कर…

जीवन का परिंदा तो उड़ जाऐगा।। 🇨🇮🙏motivational poetry

#EDMranjit
जीवन का परिंदा तो उड़ जाऐगा।। 🇨🇮🙏motivational poetry जीवन का परिंदा तो उड़ जाऐगा।। 🇨🇮🙏motivational poetry

कहीं मिलती हैं निगाहें कहीं मिलतें हैं इंसान। 🙏🇨🇮☝✌

#EDMranjit
कहीं मिलती हैं निगाहें कहीं मिलतें हैं इंसान। 🙏🇨🇮☝✌ कहीं मिलती हैं निगाहें।
कहीं मिलते हैं इंसान।
कहीं सजती हैं बारातें।
कहीं सजते हैं शमशान।
।।
कहीं दिखता हैं अपनापन।
कहीं दिखता हैं सुनापन।
कही चलती हैं तनहाई।
कहीं दिखती हैं शहनाई।
।।
कहीं आती हैं बरसात।
कहीं चलता हैं तुफान।
कहीं बसता हैं घर आंगन।
कहीं उजड़ा हैं बागान।
।।
कहीं मिलती हैं शाबाशी।
कहीं मिलती हैं शौगात।
कही मीलता जीवन अच्छा।
कहीं तड़पे हैं इंसान।
।।
कहीं सजी हुई हैं धरती।
कहीँ जंगल हैं सुनसान।
कहीं हरियाली हैं दिखती।
कहीं सुखा खेत किसान।
कहीं मिलती हैं निगाहें कहीं मिलतें हैं इंसान। 🙏🇨🇮☝✌
कहीं सजी हुई हैं भाषा।
कहीं बंद पड़ी हैं जुबान।
कहीं दिखे ठाट और बंगला।
कही बदहाली इंसान।
।।
कहीँ बजे राज मे डंका।
कही सून पड़ी हैं गलियां।
कहीं चिंगारी दिखती हैं।
कहीं तड़प रही हैं जान।
।।
कही पुज रहे हैं मंदिर।
कही शौर करे रमजान।
कही झुकें मिले गुरूद्वारे।
कहीं दिखे शांत चर्च सारे।।
।।
कहीँ भटक रहे है नेता।
कही भटक रहा जनमानस।
कही सुन पड़ी हैं सेवा।
कहीं जाग रहा हैं सैनिक।।
।।
कहीं आशा हैं कुछ जागी।
कही दिखें आँख में आश।
क…