Showing posts with label माँ आ रही हैं। नवरात्रि कविता।. Show all posts
Showing posts with label माँ आ रही हैं। नवरात्रि कविता।. Show all posts

Thursday, September 26, 2019

माँ आ रही 💐 नवरात्रि कविता।। Mother is coming 💐 Navratri poem.27/09/2019

#EDMranjit
नवरात्रि वंदना माँ भक्ति कविता
Www.edmranjit.pics from g web

माँ आ रही 💐 नवरात्रि कविता।। Mother is coming 💐 Navratri poem.27/09/2019


माँ आ रही हैं जग को फिर से संवारने। 
तु तन से तु मन से माँ को पुकार ले।। 
जो थम गया था तेरा जीवन का कारवाँ। 
बीन बोले पुरी होगी वो हर मुराद तेरी। 

वो भक्ति में है खोई भक्तों के संग रहती। 
ना भुलती कभी वो नवरात्रि का सबेरा। 
निश्चल हैं मन अगर गुहार फिर लगा ले। 
माँ के चरण मैं झुक कर अब शीश तु नवा ले।। 

वो चर में भी अचर में भी धरा के हर पहर में भी। 
वो नभ भी है और शीत भी स्वर्ग भी स्तह भी है ।।
जगत की हर विरह भी है सुख भी संचय भी है। 
माँ ज्ञान भी संज्ञान भी है शक्ति का वरदान भी है।। 

अब आ गया है फिर से स्नेह का सवेरा। 
जोत भी जल रही है माँ ले कर नाम तेरा।। 
छुटे ना तेरे दर से कोई गरीब शाही।
 आशीष सबको देना ओ कटरा वाली माँई।। 

अभय हैं तेरे दर का हर एक रहगुजारी।। 
तुने तो सबकी दुनियां स्नेह से सजाई।। 
अब आ भी ओ माते हम भी बुला रहे हैं।। 
तेरे धाम की तरफ हम अर्जी लगा रहे हैं।। 

माँ तुझ से ऐसा नाता जो प्राण से भी प्यारा।। 
पुकारते हैं तुझको धरती के सारे लाला।। 
माँ शीतले माँ कोमल हृदय की शीत छाया।। 
तुने बड़े विनय से संसार ये बसाया।। 

नमन हैं माता तुमको धरती के कण कण से।। 
झुमता हैं मन सबका आपके आगमन से।। 
माँ आप सबकी प्यारी हम लाल सब तुम्हारे।। 
आशीष सबको देना सब चरण हैं पखारे।। 
माँ तुझे प्रणाम।। जय माता दी।। 💐🙏🏻🔱
Writing by ranjit choubeay. 
Www.edmranjit.com.

माँ आ रही 💐 नवरात्रि कविता।। Mother is coming 💐 Navratri poem.27/09/2019🌹🌺🌼☘️





बंसत पंचमी कविता 👏30/01/2020

#EDMranjit बंसत पंचमी कविता👏30/01/2020 बंसत पंचमी कविता  इस माँ के बीना तो संसार अधुरा लगता था। नहीं आती तु तो सब सूना सूना लगता...