Showing posts with label पिज्जा डिलीवरी साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love story'18/09/2019💐part 04. Show all posts
Showing posts with label पिज्जा डिलीवरी साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love story'18/09/2019💐part 04. Show all posts

Wednesday, September 18, 2019

पिज्जा डिलीवरी साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love story'18/09/2019💐part 04)

#EDMranjit  motivated story. Wid love.

पिज्जा डिलीवरी  साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love story'18/09/2019💐part 04


#पार्ट 4#
Motivation story pizza boy
Pizza. Edmranjit.com motivated story. 


साहिल यार आकाश हम पुरी दिल्ली में पिज्जा सपलाई करेंगे ना। आकाश हा पर जो ओडर ज्यादा दुर का होता हैं।
वो उस एरिया के शोप से पुरी की जाती हैं।
इसका मतलब ये हैं की अपने सैठ की पुरी दिल्ली में 7 shop और भी हैं। जहाँ से जो पास में पडता हैं  वो एरिया वाईज हो जाता हैं।साहिल यार तु टेनशन ना ले मैं हु ना तेरे साथ जल्दी ही तु। दिल्ली का हो जाएगा और दिल्ली तेरी।
अच्छा साहिल अब तु जल्दी से कुछ Address note kar
और वहाँ का पार्सल दे कर आ जा फिर हम फ्री।

साहिल ओके यार चल फिर में आता हु।
साहिल का आज पहला दिन था उसके मन में थोड़ा डर था तो थोड़ी खुशी भी थी।
उसने अशोक नगर मे अपनी पहली डिलीवरी दी ।
उसके बाद पास में कुछ औफिस की डिलीवरी भी दी।

उसने देखा लोग अपनी लाईफ में इतने बिजी हैं उन्हें लंच तक ओडर करने का टाईम नही मीलता कभी कभी और इसलिए काम के टाइम पिज्जा बरगर खाकर काम में वापस लग जाते हैं लोग यहाँ।
अभी साहिल अपने तिसरे ओडर की तरफ निकल ही रहा था तब तक उसके सैल पर फोन आया हैलो क्या आप हमारा पिज्जा थोड़ा जल्दी डिलीवरी करोगें सर हमने मोर्निग से कुछ नही खाया ।

साहिल पहले तो डर गया फिर बोला यस मेम हम बस फाईव मिनट मे आ जाऐंगे।
ये एक icici bank ki unit मेनेजर निशा जी का फौन था जो इस पिज्जा शोप की रेगुलर कस्टमर थी और तो और इनके दिन की शुरुआत ही साहिल के शोप के पिज्जा से होती थी।

साहिल मेम आपका ओडर । ओह यस मिस्टर साहिल थेंक्यु ।
तो आप नये हो आई एम राईट साहिल जी मेम तो साहिल अब आप को डेली यहाँ पिज्जा लाना हैं पता हैं आपको जी मेम ।
साहिल ये टाइम ठिक हैं या फिर थोड़ा और जल्दी।
ओह साहिल बहुत ही गुड बोय लगते हो औकै ये टाइम सही हैं।
और सुनो थोड़ा इधर उधर भी चलेगा पर जल्दी के चक्कर में।

कही बाईक भी मार सकते हो ना शो आराम से डियर कोई जल्दी नही। साहिल ओके मेम थेंक्यू।
साहिल को यहाँ थोड़ा अच्छा लगा क्योंकि कुछ जगह तो लोगों ने उससे नारजगी ही दिखाई थोड़ा जल्दी आया करो
कल से लैट नहीं होना बहुत सी बाते।

उसने देखा कुछ लोग तो बस अपने सामान की फिकर करते हैं।
और कुछ लोग इनसानियत की भी कदर करते हैं और समझते हैं। अब साहिल ने अपने पुरे आज के ओडर खत्म कर लिये थें।

तभी आकाश की कौल आई भाई कहां हौ आ जा़औ यार लंच भी करना हैं। साहिल हा यार बस आ ही गया।
अब आगे साहिल को आज अच्छा भी लगा और
कुछ अजीब सी बाते भी उसको समझ में आई।

आगे साहिल क्या करेगा कैसे अपनी लाईफ ।
के फैसले लैगा ।
Next day.

पिज्जा डिलीवरी  साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love story'18/09/2019💐part 04
........

बंसत पंचमी कविता 👏30/01/2020

#EDMranjit बंसत पंचमी कविता👏30/01/2020 बंसत पंचमी कविता  इस माँ के बीना तो संसार अधुरा लगता था। नहीं आती तु तो सब सूना सूना लगता...