प्रोरोफेशर डाइनामाइट (B5) professor dainamight💐🇨🇮एक ऐसा व्यक्ति जो दूरगामी भविष्य सोच समझ लेता है एक दार्शनिक की भांति 👏🙏🏻18/09/2019

#EDMranjit  motivational story.

प्रोरोफेशर डाइनामाइट (B5) professor dainamight💐🇨🇮एक ऐसा व्यक्ति जो दूरगामी भविष्य सोच समझ लेता है एक दार्शनिक की भांति 👏🙏🏻18/09/2019

Motivational story
Pixeal.com free pics. Www.edmranjit.com

प्रोरोफेशर सर से मुलाकात आज की बहुत खुबसुरत रही आज तो कोई भी डर भय वाली समस्या नहीं हुई ना ही आज कोई रिवेन्ज हूआ बस कुछ बाते देश समाज और पर्सनल जिंदगी के पहलुओ पर ही चर्चा होकर रह गई और फिर वक्त ने मुझे फिर वापस एक मौका देने की जिद् छेड़ दी। 

आज जैसे ही में उनसे मिलने पहुँचा तो मुझे एसा लगा जैसे उन्हें पहले से ही मेरा इंतजार हो और हुआ भी ऐसा ही था वो कुछ परेशान उखडे़ उखड़े से नजर आए मैने उनसे कुछ पुछना चाहा। पर वो पहले ही बोल उठे हाँ मिस्टर राइटर कैसे हो बताओ और तुम्हारा काम कैसा चल रहा है मैने भी सब ठिक ठाक कह दिया। सुनते ही बोले चलो सही है। 

फिर मैने वापस कोशिश की और कहाँ सर आप कैसे हो आपका सब एक्सपैरिमेंट कैसा चल रहा हैं तो उन्होने कहाँ कैसा एक्सपेरिमेंट भाई तुम भी मुझे पागल समझ बैठे हो क्या। मैने तुरंत ना मै सर हिलाया और कहाँ नहीं सर वो बात नहीं है आप तो गलत समझ गये मेरी बात को। मैने तो बस उस अजगर के बच्चे का घाव जानना चाहा था क्या ठिक होकर चला गया या फिर अभी यही है। फिर सर ने कहाँ नहीं वो तो चला गया मैने उसे वहीं तालाब के किनारे छोड़ दिया। 

फिर कुछ वक्त चुप रहने के बाद मैने सर से कहाँ सर आप नहीं होते तो वो युहीं मर जाता तड़प तड़प कर लेकिन आप ने ना सिर्फ़ उसकी जान बचाई बल्कि उसका उचित इलाज भी किया उसका ख्याल भी रखा सर आप सच मैं बहुत अच्छे इंसान हो। सर कहने लगे एसा कुछ नहीं बेटा हर इंसान का यही फर्ज होता है वो एक दुसरे कि मद्त करे तभी तो पृथ्वी सुरक्षित रहेगी वरना इस तरह तो जीवन दुभर हो जाएगा प्रकृति पर। उनकी बात बीलकुल सही थी शायद एक दार्शनिक ही देश समाज जीव मनुष्य धरा आसमान सभी को सही दृष्टिकोण से देख पाता है। वरना हम आम इंसान तो सिर्फ़ अपना पराया लोभ लालच के भँवर से निकल ही नहीं पाते।। 

फिर कुछ वक्त मौन के बाद मैने बडी़ हिम्मत से पुछा सर क्या में आप से कुछ पुछ सकता हूँ। तो प्रोरोफेशर सर ने कहाँ बिलकुल पुछ सकते हो तुम । क्योंकि यहाँ मुझे तुम्हारे शिवा कोई और जानता भी नहीं और ना ही में किसी को जानता हूँ ना किसी से बात करने की कोशिश करता हूँ। यहाँ जो भी मेरे पास आता है या तो वो किसी बात से परेशान होता है उसे उसकी परेशानी के अंत का सुझाव चाहिए होता है या फिर कुछ और उदेश्य हेतु आता हैं। में भी उन सब से उतना ही मिलता हु जीतनी उनकी जरुरत होती है। पर तुम कुछ खास हो तुम्हें भी समाज और प्राकृतिक से जुड़ा पाया हे मैने इसलिए तुमसे बात करना पसंद करता हूँ। पुछो जो भी पुछना हैं। 

प्रोरोफेशर डाइनामाइट (B5) professor dainamight💐🇨🇮एक ऐसा व्यक्ति जो दूरगामी भविष्य सोच समझ लेता है एक दार्शनिक की भांति 👏🙏🏻18/09/2019

मैने डरते डरते उनसे पुछा सर जब आज मैं आप से आज मिलने आया तो आज आप मुझे कुछ उदास उदास नजर आए इसलिए में कुछ परेशान सा हु क्योंकि इससे पहले मैने आपको हमेशा खुश और एकदम तरोताजा ही देखा है। सर क्या कोई बिग परेशानी है। प्रोरोफेशर सर एक बार तो मेरी तरफ देखने लगे फिर थोड़ा चुप रहे और फिर एकदम से खड़े हुए मेरा हाथ पकड़कर खड़े हुए बोले आओ मेरे साथ। मै बस चुप से उनके साथ चल दिया कुछ वक्त पैदल चलने के बाद वो एक झाड़ के पास मुझे ले गये और कहने लगे यहाँ से उस पार देखो ।

मै तो कुछ समझ ही नहीं पाया फिर भी उनके कहने के मुताबिक मैने उस झाड़ी के उस पार देखने की कोशिश की मुझे कुछ भी नजर नहीं आया क्योंकि वो झाड़ी बहुत घनी थी। मैने सर से कहाँ सर कुछ भी तो नजर नहीं आ रहा है आप मुझे कुछ समझाने की कोशिश कर रहे हैं पर में समझ नहीं पाया। 

प्रोरोफेशर सर कहने लगे यही तो मेरी चिंता का विषय हैं कोई भी मनुष्य इस पृथ्वी के कण को ठिक से समझने की कोशिश नहीं करता बस अपनी जरूरतों के हिसाब से धरा को बदलने की कोशिश में लगा हुआ है।। फिर मैने उनसे विनती की सर आप मुझे विस्तार से बताईये बात क्या है शायद में समझ जाऊ क्योंकि में आप से जुड़ा हुआ हु। प्रोरोफेशर सर ने बताया अभी अभी जिस झाड़ी के पास तुम खड़े थे क्या तुम्हें पता हैं वो क्या है। मैने ना मै सर हिलाया फिर उन्होनै बताया वो जीवन है। इस जंगल को आज से हजारों वर्ष पूर्व लगाया गया था ।

इसमे विश्व के सबसे ज्यादा आयुर्वेदिक पौधो को लगया गया था। मेरे पचास सालो के शौध के बाद में इस जंगल तक पहुंचा। मेरे शिवा कोई दुसरा इस जंगल के विषय मैं नहीं जानता लोग सरकार अधिकारी या फिर जंगली वासी भी इसे सिर्फ एक आम जंगल ही समझते हैं।। 

सर की बातें सुनकर मेरी तो फटी की फटी रह गई में तो समझ ही नहीं पाया आखिर ये आज तक कोई क्यों नहीं समझ पाया 
प्रोरोफेशर सर ने आगे बताया यहाँ के आदिवासी लोग कुछ छोटी मोटी पेड़ पतियों को पहचानते है पर उन्हें नही पता ये पुरा जंगल आयुर्वेद का घर है। वो लगातार इस जंगल की झाडि़यो को अपने निजी स्वार्थ के लिये बर्बाद कर रहे हैं। सर की बात सब समझ में आ गई थी पर एक बात अभी भी समझनी थी।

 उन्होने झाड़ी के उस पार देखने के लिये क्यों कहाँ था। मैने ये बात पुछी तो उन्होने कहाँ जब तुम सिर्फ एक झाडी़ के उस पास नहीं देख सकते तो सोचो जब ये जंगल ही नहीं रहेगा तो करोडो़ मनुष्य जीव जंतु पंछी इस आयुर्वेदिक जंगल को अपना जीवन मानते है उनका क्या होगा। में देख रहा हु यहा के दबंग आदिवासी जंगल को काटे जा रहे हैं अपनी छोटी छोटी जरूरतों के लिये अरबो लोगों की जिंदगी कि दवा ही मिटा रहे हैं यही मेरी चिंता का विषय था। 

प्रोरोफेशर सर की बातों ने मेरी तो आँखो की रोशनी दुगनी कर दी थी मुझे तो जैसे अब चारो तरफ इस जंगल में जीवन ही जीवन दिखाई दे रहा था। पर अफसोस में एक अदना सा लेखक था लिखने के अलावा मुझे कुछ और आता ही नहीं था फिर भी में समझ चुका था हमारे आस पास हर पेड़ पोधे का अपने आप में अपने गुणों का बहुत महत्व है जरूरत है हम उनके गुणों का ज्यादा से ज्यादा लाभ उठाए ना की उनके प्रति लापरवाही बरते और उनकी जर्नी ही खत्म कर दे।। मेंने सर से कहाँ अगर आप चाहे तो प्रशासन की मद्त से ये सब नुकसान रोक सकते हैं पर उन्होने मना कर दिया उन्होने कहाँ बेटे अगर हमने एसा किया तो वो लोग ही इसे बेच खाँऐगे इसलिए हम इस जंगल को अपने तरीके से बचाऐगें। 

मित्रों प्रोरोफेशर सर की वर्षो की मेहनत ने उन्हें वहाँ लाकर खड़ा कर दिया था जहाँ वो आना चाहते थे। और जब उनकी रिसर्च का फल उन्हें मिला तो उन पर अब इस पुरे आयुर्वेदिक स्थान को सुरक्षित बचाने का संकट भी आ गया था। 

तो मित्रों आगे की जर्नी को समझने और पढ़ने के लिए थोड़ा इंतजार कीजिए सर से अगली मुलाकात का। 

Www.edmranjit.com
Writing by ranjit choubeay. 
18/09/2019.

प्रोरोफेशर डाइनामाइट (B5) professor dainamight💐🇨🇮एक ऐसा व्यक्ति जो दूरगामी भविष्य सोच समझ लेता है एक दार्शनिक की भांति 👏🙏🏻18/09/2019


Comments

Popular posts from this blog

कुछ पल की जिंदगी हैं कुछ पल में मिट जाना हैं। /There are few moments of life to be erased in a few moments/

Poetry //कितनें सत्य जीवन के💐

अब जिंदगी मैं वापस जाना नहीं है //पोयम//💐