Skip to main content

सच्ची बातें। चाहें तो परख लेना वक्त पर। True words. If you want, take time to test.🇨🇮👏👏💐

#EDMranjit

 सच्ची बातें। चाहें तो परख लेना वक्त पर। True words.  If you want, take time to test.🇨🇮👏👏💐


बहुत मश्गुल है वक्त अपने आप में इसकी फितरत में भी ईमानदारी नहीं।
Time is very strong, there is no honesty in its nature in itself।

आप कब हार जाओगे ये तो आप भी नहीं जानतें। फिर भी दुनियां के झुठे फैसले का इंतजार जरूर करते हो।

You won't even know when you will lose.  Still you wait for the false decision of the world.

अपनी इमानदारी को जब भी रिस्तो पर तोलोगे इमानदारी हार जाऐगी रिश्ता जीत जाऐगा।

Whenever you trust your honesty on your faith, honesty will be lost, the relationship will win.।

 सच्ची बातें। चाहें तो परख लेना वक्त पर। True words.  If you want, take time to test.🇨🇮👏👏💐


Edmranjit.com
motivated tips
16/08/2019.

Comments

Popular posts from this blog

कुछ पल की जिंदगी हैं कुछ पल में मिट जाना हैं। /There are few moments of life to be erased in a few moments/

#EDMranjit  कुछ पल की जिंदगी हैं कुछ पल में मिट जाना हैं। /There are few moments of life to be erased in a few moments/कुछ पल की जिंदगी हैं  कुछ पल में मिट जाना है //फिर कैसी ये कड़वाहट है कैसा ये टकराना हैं।। मिल कर बीता सको एक दूजे का साथ मित्रों  तो मिल जाना।। वरना  ये पल तो बस युही निकल जाना हैं। फिर कैसी ये कड़वाह कैसा ये टकराना हैं।। 
बड़े शानौ शौकत से मिली हैं  आपको ये प्यारी सी जिंदगी।। खुलकर लुटा डालो अपने मन के हर अरमानो को।। क्या पता कब ये पल हमें मजबूर कर दे सब कुछ यही छोड़ जाने को। लोग कहतें आऐं हैं  तरसते हैं  सब जीव मानव जन्म पाने को।। 
चलों मिलकर सब एक सुंदर सा जहाँ बनाते हैं।। राग् द्वेष सब यही पर छोड़ जाते हैं।। नहीं कुछ तेरा मेरा सब मिलकर बाँट लेते हैं।। श्री के श्री चरणों मैं  सुंदर मन से शीश झुकाते हैं।। 
जय श्री राधे कृष्णा।। कुछ पंक्तियां  मेरे श्री को सम्रप्रित।। कुछ पल की जिंदगी हैं कुछ पल में मिट जाना हैं। /There are few moments of life to be erased in a few moments/Www.edmranjit.com 26/07/2019.   Ranjitchoubeay. 

Poetry //कितनें सत्य जीवन के💐

###ranjit//
Poetry //कितनें सत्य जीवन के💐 इतना गैरत भी नहीं के गिर जाऊ।
बीना पंख के भी मन सबसें तेज है ।
दुर निगाहों से देखता इंसान चाँद को।
आसमां मैं भी बहुत सारें छेंद हैं ।
कभी नदियों का बहना गौर करो।
समुन्दर के विशाल आकार को निहारों।
सब कुछ समाहित कर जानें वाला भी।
अपनी खामोशियों से शान्ति फैला रहा है ।
अदम्य साहस भर कर भी हाथी डरता हैं ।
एक छोटी सी चींटी से सिंहरता हैं।
सब कुछ पाना ही जिंदगी का राज नहीं।
जन्म और मृत्यु के बीच में संघर्ष सत्य है ।
कभी भटक जाता हैं ज्ञानी पुरूष भी।
धर्म सत्य ज्ञानी और अज्ञानी के बीच सदैव।
जो फैला रहा फैला रहेगा वही जीवन मतभेद है।
अगर खुद ही विकार संबल हो जाएं।
मन खुद ही प्रबल हो जाएं।
तो अंधकार सा लगने वाला जीवन भी जल ऊठे।
फिर कैसा रंगभेद सारा जहाँ अपना स्वदेश हैं ।
Www.edmranjit.com
Poetry //कितनें सत्य जीवन के💐 #रंजीत चौबे। 09/07/2019

अब जिंदगी मैं वापस जाना नहीं है //पोयम//💐

###ranjit//
अब जिंदगी मैं वापस जाना नहीं है //पोयम//💐 अब जिंदगी में वापस।
जाना नहीं हैं।
किसी से भी दिल ये।
लगाना नहीं हैं।
कोई इसकों तोड़ें खिलौना।
समझकर।
ऐसें लोगों की बातों में ।
आना नहीं हैं।

```नहीं कोई मेरी तमन्ना रही अब।
नहीं कोई सपनें सजाएंगे हम।
जो अपना समझकर पराया हैं करता।
ऐसे लोगों से मीलने ना जाऐंगें हम।

``मेरी हर कहानी के पन्नों में शामिल।
मेरी जिंदगी के वो पहलू हैं मिलतें।
जहाँ हर कदम लिखी हमनें नफरत।
वो साहिल किनारें से सजदा करें क्यों।
``हर एक पन्ना मेरी कहानी कहेगा।

हर एक आँसू बहकर नादानी लिखेगा।
नहीं होगा कोई तेरा साहिल बनकर।
ये इश्क ही तेरी कहानी कहेगा।
``हमनें खाई हर बार चोट।

फिर भी कुछ सीख ना पाएं।
एक नई शुरुआत के लिये।
हम क्यो लौट आएं।
```क्यों आशिक ही बरबाद होतें हैं।

उनकीं खता क्या हैं दुनियाँ वालों।
तुम बताओं नफरत के ठेकेदारों।
क्या दिल जलाने की ठेकेदारी मिलती हैं।
```दुनियाँ में भलें ही घर ।

चारदिवारी होतें हैं।
पर दिल की तो एक ही दिवार हैं।
क्या करेंगेः अब सच्चे दिवाने।
दिल की दिवारों पर चल रही तलवार हैं।
``टुटा हैं दिल अब जोड़ना नहीं चाहेंगे।

राह बिछ़डी है…