Contact Form

Name

Email *

Message *

Search This Blog

Blog Archive

Search This Blog

Popular Tags

Translate

Popular Posts

एक सत्यवादी राजा💐

Edmranjit

एक सत्यवादी राजा💐

आज #एक #राजा #की #कहानी #सुनाता #हु।

एक राजा आपने कुशल राज्य को शकुशल चला रहा था।
उसके राज्य में सब जन सुखी थे। राजा स्वय भेष बदलकर आपने राज्य मे घूम घूमकर प्रजा का हाल चाल पुछा करता था। जब भी उसे कुछ गलत काम होता नजर आता तो वो तुरंत प्रभावी कदम उठाता और सब ठिक करवा देता था। गरीब असहाय की राजा खुब सेवा करता था।साधु संत भी राजा की बहुत प्रशंसा करते नहीं थकते थै।देखते ही देखते राजा की किर्ती दुर दुर तक फेलने लगी। राजा का नाम चारों तरफ फैलने लगा।समय बीतता गया सब कुछ ठिक से चल रहा था।
एक बार राजा के दरबार मैं एक फकीर आया।
राजा ने बडे़ ही मान सम्मान से फकीर की सेवा की। फकीर राजा से कुछ वार्तालाप करना चाहता था। परन्तु फकीर राजा से अपनी बात कह नहीं पाता था। वो स्वयं बोलता था।राजन मैं आपसे कुछ कहना चाहता हु। पंरन्त अभी कह नहीं पा रहा हूँ।
राजा भी फकीर की बात सुनकर बहुत उतशुकता पूर्वक बोलता  महात्मा आप जो भी कहना चाहतें हैं आप निंश्नकोच होकर कहिये हम भी सुनना चाहते हैं। आप की समस्या अगर हम आपके लिये कुछ भी कर पाये तो अवश्य ही हमारे भाग्य का उदय होगा। फकीर राजा की कार्यकुशलता से उसके राजकाज और राजधर्म से बहुत प्रभावी था। फकीर की चिंता का विषय राजा से ही जुड़ा हुआ था। जीस फकीर को राजा फकीर समझ रहा था वो फकीर एक तेजस्वी संत था। राजा का एक बहुत ही होशियार तेज और चालाक मंत्री था। उसने राजा से कहा। 

  एक सत्यवादी राजा💐


महाराज ये कोई मामुली फकीर नहीं लगता इनके मुख से किसी ज्ञानी पुरूष की तरह वचन निकलते है। और ये कोई महान संत रिषि लगते हैं। और फकीर के भेष मैं आपकी परिक्षा लेने आऐं हैं। अपने मंत्री के मुख से ऐसी बात सुनकर राजा चिंतित हो गया। और फकीर की सेवा में निरन्तर लगा रहा। इधर वक्त बितता जा रहा था और फकीर  की चिंता भी बढ़ती जा रही थी। राजा भी फकीर से हर दिन मिलता हाल चाल उनकी सेवा सुनिश्चित करता रहा। अब वक्त आ गया था जब फकीर को राजा सै वो राज बताना था जो उसकी चिंता का विषय था। फकीर ने बहुत सोचा और पूनर विचार किया क्या ऐसे राजा का पतन होना चाहिए जो अपनी प्रजा को अपने पुत्र के समान और अतिथि को भगवान के समान सम्मान करता हो। अपने राज्य और सभी के लिये हर पल प्रस्तुत रहता हो।

राज्य की उन्नति के लिये अपनी जान तक लगा देने की मंशा रखता हो। फकीर को ईश्वर पर उसकी बनाई योजना पर बहुत निराशा हो रही थी। उस फकीर को राजा की अल्प आयु का ज्ञान हो चला था। जो स्वय राजा भी नहीं जानता था। राजा की मृत्यु होने वाली थीं और फिर राज्य का विनाश होने वाला था। ये राजा के पूर्व जन्म का डंड था जो उसे इस जन्म मै मिलना था। फकीर बहुत निराशा था उसने इश्वर का चिंतन किया और कहा हैं प्रभु आप तो सर्वज्ञानी हैं आप तो कृपालु हैं। फिर जो भी आपकी सरण मैं आता है।

या फिर अपने पुनःकर्मो से सभी का भला सम्मान करना है। आप की भक्ति करता है। आप तो उसका कल्याण करते हैं।
फिर इस राजन की ऐसी सेवा भक्ति से आप कैसे मुख मोण सकते हैं। फकीर के ध्यान मैं ईश्वर ने उनकी पार्थना सुन उन्हें दर्शन दिये। और कहाँ हैं मुनी श्रेष्ठ आपकी भक्ति भावना और विचार उचित है। परंतु ये राजन अपने पिछले जन्मो मैं बहुत अपराधिक थे। इन्होनै बहुत दुर्गमचारी कार्य किये हैं। इसी के अनुरूप इनकी ये अल्पाआयु और विनाशकारी परिणाम भुगतने की अवधी का आरंभ होने वाला है। फकीर संत ने ईश्वर से कहाँ भग्वन क्या राजा के इस जीवन की सेवा का भक्ति का कोई मुल्य नहीं आप तो स्वयं ही अंतर्यामी है प्रभु आपनें ने देखा ही है राजन ने बिना किसी भेद के  मुझे फकीर समझ कर बहुत सेवा की। कृपया दया कीजिए भग्वन।

फकीर ने ईश्वर से कहाँ  भग्वन आज भक्त और भगवान दोनो मीलकर क्या एक देवतुल्य राजा के पूर्ण जन्मों के अपराध को क्षमा नहीं कर सकते। जन कल्याणकारी राजा को जीवन दान नहीं दे सकते।

फकीर ने कहाँ प्रभु आप चाहे तो मेरे सारे पुन्य कर्म का में त्याग कर देता हूँ। बस आप राजन को डंड मुक्त कर दीजिए।
फकीर ईश्वर के अन्नय भक्तों मैं एक थे। और भग्वान तो भक्त वंशल होते हैं। उन्होंनन संन्यासी महान फकीर की प्रार्थना स्वीकार की। और राजन को जीवन दिया और राज्य को सर्वनाश से बचा लिया। कहतें हैं मायने ये नहीं रखता हमने पहले क्या किया।
मायने ये रखता है। हम आज क्या कर रहे हैं।
जब हम अच्छे कर्म करते हैं तो।
हमारे लिये संत महात्मा और इश्वर सब हमारे कर्म मैं निहित होकर हमारा और हमसे जुड़े समाज का कल्याण करते हैं।

#रंजीतचौबे।।।।।।।।।।। #कर्मो #ही #धर्म #है #और #धर्म #ही #ईश्वर #हैं #दिनांक
21/06/2019***********एक नई सुबह योगा दिवश के साथ सभी को सुप्रभात 🌱
Www.edmranjit.com
Writing by ranjit choubeay.

एक सत्यवादी राजा💐


No comments:

आपको ब्लाँग अच्छा लगा तो फौलो किजिए। आपका सुझाव हमें प्रेरित करेगा।