Thursday, January 30, 2020

बंसत पंचमी कविता 👏30/01/2020

#EDMranjit

बंसत पंचमी कविता👏30/01/2020

बंसत पंचमी कविता 

इस माँ के बीना तो संसार अधुरा लगता था।
नहीं आती तु तो सब सूना सूना लगता था।
विद्या की देवी माँ तुझ बीन ज्ञान सरोवर सूना था।
तु ज्योति बनकर आई तो बंसत भी पुरा लगता हैं।

 " मधुर स्वर वीणा ज्योति कुंज उज्ज्वल संसार किया।
माँ तुने तो धरा को विद्या कंठ कर दिया।
गुगे का भी स्वर बनी माँ हर मुख मैं तु समाई।
धरती से अंबर तले तु वेदो मैं हैं छाई।

"बीन तेऱे माता जीवन के हर मोड़ पर अंधेरा।
तू हैं तो प्राणी का भी जीवन लगे है पुरा।
माँ वंदना माँ सारदा माँ ज्योतिमय विद्यावाहिनी।
करो कृपा जगत ज्योति रुपा जीव सजल तारिणि।

 बंसत पंचमी कविता👏30/01/2020

"ब्रम्हा का सृजन हो माँ  कंमलडली कहलाई हो।
सरस्वती नदी का रुप माँ धरा पर तुम आई हो।
जगत के कण कण पर माँ तेरा उपकार हैं।

"तु बुद्धि हैं संगीत माँ तु वेद् हो विज्ञान भी।
जीवन की सुरुआत से मानव के उत्थान तक।
जीव जगत से देवो तक माँ तेरा ही तो ज्ञान है।
माँ हंसवाहिनी तुम से ही तीनों लोक प्रकाशमान हैं।

"माँ ऐसे ही जीवन में सभी के प्रकाश फैलाए रखना।
ज्ञान का दिपक जग में जलाए रखना।
हर जीवन की बुद्धि बनाए रखना।
धरा पर वेदो की लहर चलाए रखना।

"माँ हंसवाहिनी माँ वीणादाहिनी माँ सारदा माँ विद्यावाहिनी
तिनो लोक मैं आपकी जय जय कार आपको मेरा सदैव प्रणाम 👏👏👏👏👏👏👏☘️writing by Ranjit choubeay .Edmranjit.com
Date 30/01/2020
हैप्प बंसत  पंचमी ।

बंसत पंचमी कविता 👏30/01/2020



Tuesday, December 17, 2019

पिज्जा डिलीवरी साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love( part 12)18/12/2019

#EDMranjit
पिज्जा डिलीवरी साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love( part 12)18/12/2019

साहिल तुम अब कैसे हो मै ठिक हु सुरभि अच्छा गुड सुरभि सुनों हम शाम को बात करते हैं। अभी थोड़ा काम कर रहा हु।
सुरभि ओके। बांय साहिल बाय यार ।आकाश भाई हमने कल वो बिल दे दिये थें जो अपनें मंथली कस्टमर थें।

उनके ओफिस और घर जाकर एक बात बोलें हम ने जब कुछ बिल दिये तो लोगों कि अजीब सी शकल सामनें आई। आकाश भाई लोगों ने पिज्जा लेतें टाइम कभी कोई शिकायत नहीं की अब बिल के टाइम कैसी शिकायत।

हमें तो लोगों की ये आदत बिलकुल भी अच्छी नहीं लगी हम तो धुप बारिस आंधी तुफान रात दिन मेहनत से उनके घर या औफिस में डिलीवरी पहुंचाते हैं ना हम तो कभी कोई शिकायत नहीं करते।फिर पैमेंट टाईम में कुछ लोग ऐसा क्यों करते हैं। आकाश साहिल मेरे भाई ये बिजनेस में ऐसा होता हैं।
पिज्जा विथ लव
Edmranjit.com


कोई भी काम करो लोगों को पैसे देते टाइम अच्छा नहीं लगता।साहिल आकाश भाई मुझे तो आज बिल्कुल अच्छा नहीं लगा और आज नहीं तो कल में सैठ जी से इस बारे में बात करूँगा की जो लोग पैसे दैने में मुह बनाते हैं ऐसे लोगों की डिलीवरी हमे बंद कर दैनी चाहिये।

आकाश साहिल तुम सोचते बहुत हो। यार और सही सोचते हौ पर क्या हर आदमी हमारे तुम्हारे जैसा सोचता हैं। साहिल नहीं सोचते तो हम क्या करें हम तो अपनें काम में कोई कोताही कोई गलती नहीं करते। तो आकाश भाई में तो कुछ नहीं झैल सकता।

में सैठ जी को बोलुंगा अगर सैठ जी माने तो ठिक हैं अगर सैठ जी ने मेरी नहीं सुनी तो आकाश भाई ये पक्का हैं।
 की में वहाँ डिलीवरी ही नहीं दैने जाऊँगा जो लोग खाने के बाद बिल दैने में आनाकानी करते हैं मुह बनाते हैं अपनी तो साफ सी निती हैं जो बुरे लोग हैं में उनसें दुर रहु।

आकाश हाहाहाहा साहिल तुम बहुत अलग हो यार लेकिन प्लिज तुम  इतनी सारी बातें सैठ जी से मत करना में उन्हें जानता हु उन्हें बस अपनें पिज्जा सप्लाई से मतलब हैं उनको बस ज्यादा से ज्यादा कस्टमर चाहिये अब कस्टमर उनके कर्मचारी के साथ कैसा व्योहार करता हैं।

पिज्जा डिलीवरी साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love( part 12)18/12/2019

 या बिल लैट देता हैं उससें सैठ जी को अभी तक तो कोई फर्क पड़ा नहीं तो साहिल यार तुम्हारे हमारें जैसे काम करने वालों के बोलने से तो कोई फर्क नहीं पड़ता। साहिल आकाश भाई सैठ जी को फर्क पड़े या ना पड़े पर हमें तो फर्क पड़ता हैं ना हम क्यो घटिया टाईप कस्टमर को डिलवरी दै हमारी सर्विस इतनी अच्छी हैं।

कि हमें और भी अच्छे कस्टमर मिल सकते हैं फिर हम ऐसें लोगों के पास जाऐ ही क्यों। आकाश साहिल ये बातें सब ठिक हैं। लेकिन अपना सैठ साहब हमारी बात सुन लेंगे तुम्हें ऐसा लगता हैं। आकाश भाई सैठ जी को मानना ही हौगा में।

बताऊंगा उन्हें हम कितनी मेहनत सै डिलीवरी करते हैं और कैसी सर्विस दैते हैं हम खुद के लंच टाइम भुल जाते हैं अपने कस्टमर की सेवा के लिये तो फिर कस्टमर को भी दौहरा व्योहार नहीं करना चाहिये।आकाश अच्छा साहिल जो भी बात करनी  हैं कर लैना पर ये भी मत भुलो हम बस यहाँ एक डिलीवरी बाँय हैं कहीं हमारा सैठ ये ना सोच ले कि हम तो मालिक जैसा सोचते हैं।

साहिल आकाश भाई वो तो अपने सैठ कि सोच पर निर्भर करता हैं वौ हमें कितना अपना कामगार समझते हैं और कितना इंसान अगर उनमें इनसानियत हौगी तो वौ मेरी बात जरूर समझ जाऐंगे।और आकाश भाई एक बात मैरी भी सुन लो हम सब इंसान है अमीर गरीब छोटा बड़ा ये सब तो दुनियाँ की बनाई हुई दुरियाँ हैं।

अगर अपने सैठ जी को अपना बिजनेस और भी बेहतर करना हैं तो उन्हें अपने हर कर्मचारी को भी सुनना चाहिये ये कोई मेरी एडवाईस तो नहीं हैं वो अपने हर शाँप पर फौन कर पता कर लै कहीं ना कहीं उन्हें पता लग ही जाऐगा मैने कुछ गलत कंम्लेन नहीं की हैं।और आकाश भाई इस बिषय में मै तो इस रविवार को पक्का ही सैठ जी सै बात करूगाँ।

आकाश साहिल हम करो में भी यही चाहता हु कुछ कस्टमर से तो में भी काफी टाइम से तंग हो गया हु। हाहाहा साहिल आकाश भाई आप सब जानकर भी चुप हो इतना टाईम हो गया सैठ जी के पास काम करते कभी तो बोले होते।आकाश साहिल मेरी कभी इतनी हिम्मत ही नहीं हुई।

 पर अच्छा लगा साहिल ये जानकर कि अब तुम बात करोगे और हमें भी कुछ राहत मीलेंगी। साहिल जी भाई में बात करूँगा और अब तो पक्का ही करूँगा।
Writing ranjit choubeay.
Www.edmranjit.com
18/12/2019

पिज्जा डिलीवरी साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love( part 12)18/12/2019

Tuesday, October 29, 2019

शायरी दर्दे मोह्बत। 29/10/2019

#EDMranjit

शायरी दर्दे मोह्बत। 29/10/2019

दर्द
Edmranjit.com

कोई सौगात नहीं जिंदगी जो  हार जाएं ।
बस दिल की बेबसी ने जलाया हैं। ।
प्यार भी तो वहीं किया करते हैं ज्यादा। 
जिन्हें वक्त ने हरपल रूलाया हैं ।।

मासुम सा दिल भी जल कर पत्थर। 
बन जाता है दुनियां में अक्सर ।
क्योंकि इस दुनियां में हर तरफ ।
बेवफ़ाई का साया छाया हैं । 

खता नहीं हो अश्क फिर भी  गिरते हैं ।।
सजा ना भी मिले लोग फिर भी डरते हैं ।
ऐसी बेईमान मोहब्त को भी कहते हैं ।
खुदा ने अपने ही हाथों से बनाया हैं। 

जमीं गवाह उनकी हो गई जो इश्क में। ।
ताबुत हो गए । 
कुछ तो समझे कुछ मिट गए फंसाने बने ।।
कुछ सब हारकर भी न पा सके मोहब्त  ।
सुना हैं वही मजनू वही रांझा दिवाने बने। 

कोई पढ़े दिवानगी पर किताबों में नहीं । 
नशा मोहब्त का तो मिट जानें पर होता हैं।। 
वक्त जब निकल जाता है परवाने का अक्शर। 
फिर प्यार में सिर्फ़ आँसुओं का समंदर रह जाता हैं।। 

What is Love ,only for sadness then sadness ,
दोस्तों जिंदगी में प्यार तभी करना जब आपमें गम सहने की ताकत हो। 
Www.edmranjit.com
Writing by ranjit choubeay .

29/10/2019

शायरी दर्दे मोह्बत। 29/10/2019

Saturday, October 26, 2019

अब मौसम बदल रहा है।26/10/2019

#EDMranjit motivational thought.

अब मौसम बदल रहा है।26/10/2019

Www.edmranjit.com
Www.edmranjit.com

अब मौसम बदल रहा हैं।
अब.लोग संभल रहें हैं।
अब सच्चाई को समझकर।
अब लोग भक भक जल रहे है।
अब मौसम बदल रहा है।
**अब जागी है थोड़ी इनसानियत देखों।
अब लोग बात कर रहे है।
अब जब कंगाल हुआ हैं अपना कुछ।
अब पाँव फुक फुक लोग चल रहें हैं।
**अब समझ आएगा सबकों
अब आँखों मैं ज्वाला भड़कने लगी हैं।
अब पागल पब्लिक कुछ कुछ करने लगी हैं।
अब नहीं चलती भेड़चाल की मरजी।
अब मरजी से अपनी सब चलने लगें हैं।
**अब मौसम बदल रहा हैं।
अब लोग संभल रहे हैं*******
www.edmranjit.com
Writing ranjit choubeay.
26/10/2019

अब मौसम बदल रहा है।26/10/2019

👏💐शुभ दीपावली 🎆🎇27/10/2019

#EDMranjit
Www.edmranjit.com
Edmranjit.com

👏💐शुभ दीपावली 🎆🎇27/10/2019


दीपों के जगमग उजालों का मौसम आया है।
सोनें चाँदी सा चमचम बजारों का रूतबा छाया हैं।
घरों मैं सबकी अपनी अपनी फरमाइशे हैं।
बाजारों मैं भी अतरंगी अतरंगी नुमाईशे हैं।
**नौकरी से छुट्टी लेनें का मौसम आया हैं।
सभी के साथ माहौल बनाने का मौसम आया है।
यारों से मिलने अपनी सुनाने उनकी सुनने का मौसम आया है।
मिठाइयों मैं डुबकी लगाने का मौसम आया है।

**सभी रूठें मित्र रिस्तेदारों को मनानें का मौसम आया हैं।
नई फसल का लुत्फ उठाने का मौसम आया है।
घरों को नया साफ सुथरा चमकदार बनाने का मौसम आया हैं।
खुशियों मैं झुमने नाचने गानें का मौसम आया है।
भग्वान श्री राम को यादकर खुशियाँ लुटाने का मौसम आया है।**जीवन के एक और साल को शुभ दिपावली मैं छाने का मौसम आया है।

सच और झुठ पर विजय अजय समझने का मौसम आया है।
वर्षों से चली आ रही शुभ परमपरा को निभाने का मौसम आया है।
नई पिढ़ी को रावन कौन था बताने का मौसम आया.हैं।
अपनी सभ्य संस्कृति को आत्मसात करने का मौसम आया है।
छोटे को आशीर्वाद देने बड़ों का आशीर्वाद लेने का मौसम आया है।**

अपनी भुलों को भुलाकर और सत्य को अपनाकर फिर से चलने का मौसम आया हैं।
**श्री राम जी के आदर्श भरे जीवन को अपनाकर उस पर चलना है ऐसा संकल्प करने का मौसम आया है।
भैया लक्ष्मण और भरत सा प्रेम निष्षाठावान जीवन फिर से उभरे धरा पर ऐसी कोशिश करने का मौसम आया हैं।
भाई भाई के जीवन मैं सिर्फ सत्य प्रेम बना रहें ऐसा दिन जीने का मौसम आया हैं।

धरती पर धर्म की धव्जा फहरती रहे दिपावली का आदर्श बना रहें ऐसा संकल्प दोहराने का मौसम आया हैं।
ना कोई गरीब ना कोई अमीर मीलकर दीपदान दीप जलानें का मौसम आया हैं।
**माँ लक्ष्मी भगवान गणेश की शुभदीपावली पुजा कर सुख समृद्धि भाग्य जगाने का मौसम आया हैं।
तो मित्रजनों प्रियजनों देशवासियों आओं मिलकर दीपदान करें
क्योंकि सभ्यता का प्रतीक शुभ त्योहार हम सबका दिपावली का मौसम आया हैं।*****#writing #rk.#c

आप सभी मित्रों को दिपावली की अनेकों अनेकों शुभकामनाएं।27/010/2019*******#dipawali #poetry

👏💐शुभ दीपावली 🎆🎇27/10/2019

Friday, October 25, 2019

पिज्जा डिलीवरी साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love story'part(11) 25/10/2019💐

#EDMranjit
Edmranjit.com
Www.edmranjit.com

पिज्जा डिलीवरी साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love story'part(11) 25/10/2019💐


आकाश हमनें कहा था ना साहिल तुमसे तबीयत अच्छी।
नहीं तो काम पर मत चलों पर तुम माने नहीं। अब देखों कैसे बुखार ज्यादा बढ़ गया। साहिल क्या आकाश भाई आप भी बिल्कुल उस सुरभि जैसे ही रिऐक्ट कर रहे हौ वौ हमें ले गई पकड़ कर डाक्टर के पास हमने दवा भी ली हैं।

 और डाक्टर ने कहा एक दो दिन मे फिट हो जाऔगे। आकाश सही है जो सुरभि हैं वरना तुम मेरी तो सुनते ही नहीं। वरना आज बीमार तो नहीं होते। साहिल आकाश भाई आप अब शान्त हो जाईयें कल सुबह देखिये हम कैसे ठिक होकर काम पर जाते हैं।
अच्छा क्या कहा तुमने कल काम पर जाओगे। हाहाहा साहिल हमने सैठ जी को फोन कर दिया साहिल बिमार हैं ।

और दो दिन वो काम पर नहीं आ पाऐगा।आकश भाई क्या किया आपने आखिर में अकेला यहाँ रूम पर करुगां क्या। और आप कै ऊपर ज्यादा लौड आ जाऐगा शौप पर फिर ये ठिक नहीं ईसलिए मुझे यहाँ बोर नहीं हौना। आकाश साहिल कोई बोरिंग नहीं होगी मस्त खा पिकर आराम करना और शाम को सुरभि ले जाऐगी गार्डन सब मुड अच्छा हो जाऐगा। हाहाहाहा क्या भाई आप भी वो सुरभि जितने टाइम साथ होती हैं चुप नहीं रहती।

कहती हैं साहिल ये सही नहीं वो सही नहीं बस बक बक करती रहती हैं।आकाश भाई कभी कभी तो में बोर होकर उसको बोल भी देता हु अरे यार चुप भी रहा करो। आकश साहिल पता हैं तुम्हें सुरभि जैसी दोस्त किस्मत वालों को ही मीलते हैं वरना हमने तो लड़कियों को बस मतलब के लिये ही साथ रहते देखा हैं मतलब पुरा हुआ की साथ छोड़ जाती हैं ।

आजकल की लड़कियाँ पर साहिल अपनी सुरभि ऐसी बिलकुल भी नहीं लगती उसने तुम्हें खुद चुना हैं और सच्ची वाली दोस्ती की हैं और निभा भी रही हैं साहिल तुम खुद ही सोच लो वो लड़की किसी रईश आदमी कि बैटी हैं फिर भी उसने तुम मे ऐसा कुछ देख लिया जो उसे पुरी दिल्ली के लड़कों मे ना दिखा तुम्हें अपना बेस्ट फ्रेन्ड बना लिया।

 तुम्हारी इतनी केयर करती हैं और तुम कुछ भी कहो हां बोलती हैं ।साहिल और क्या चाहिये तुम्हें मेरे भाई। साहिल आकाश भाई पता हैं आपको में भी जानता हु वो बहुत अच्छी हैं ईसलिये तो में भी उसको पंसद करता हु। में भी तो उसको कभी निराश नहीं करता और ना कभी करूंगा आकाश गुड साहिल ये लो आ गया उसका फौन बात करो।

सुरभि हैलो साहिल ।हाय सुरभि हम अब बताओ कैसे हो कुछ आराम हुआ। हां यार हम ठिक है तुम बताओ क्या कर रही हो
सुरभि क्या करू तुम बोलो ये टाइम तो हम दोनों के गार्डन जाने का हैं ना अब तुम्हें फिवर हैं तो में भी नहीं जाने वाली शो घर में बैठी छोटे भाई के साथ केरम खेल रही हु। साहिल सुरभि तुम जाऔ ना यार गार्डन अपने भाई को साथ ले जाओ वो भी थोड़ा घुम लेगा ओर तुम्हारा मुड भी थोड़ा चैंज हो जाऐगा मुझे पता हैं तुम्हारी रूटीन बनी हुई हैं। तुम चाहों तो आ जाओ चलता हु साथ में। सुरभि साहिल तुम पागल हो भाड़ में जाऐ मेरी रूटीन।

पिज्जा डिलीवरी साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love story'part(11) 25/10/2019💐

तुम चुपचाप आराम करो और मेरी टेन्शन तो मत लो कहीं ना हो रहे हम बौर।और सुनों रात में खाने के बाद दवा याद करके लै लेना और सुबह कल कहीं नहीं जाओगे। जब तक पुरा फिवर गायब नहीं होता तब तक औनली रेस्ट। साहिल हाहाहाहा यार ठिक हैं आपकी हर बात सबसे ऊपर मैडम जी। सुरभि अच्छा बच्चु हम मेडम नहीं हैड मैडम हैं हाहाहाहाहा। सुनो अगर तुम्हें अपने मालिक से छुट्टी नहीं मील रही तो बोलो हम सुबह शौप जाकर उन्हें बोल दे। साहिल अरे नहीं नहीं हैड मैडम जी ऐसा कुछ मत करना।

आप सुनिए हमें पहले ही आकाश भाई ने छुट्टी दिला दी हैं। तो आप टैनशन ना लिजिये सुरभि गुड गुड ।
आकाश भाई को हमारी तरफ से थेंक्यु बोलो एक काम करो उन्हें फौन दो हम खुद बोलना चाहते हैं ।साहिल आकाश भाई लिजिये फौन। हैलो सुरभि हैलौ भाई आप कैसे हो। आकाश हम बिल्कुल ठिक हैं। सुरभि आपको थेंक्यू बोलना था आपने साहिल को छुट्टी दिलाई। आकश सुरभि साहिल मेरा छोटा भाई हैं।

तो हम ईतना तो कर ही सकते हैं ना। लेकिन थेंक्यु हमारी तरफ से आपको की आप हमारे साहिल का इतना खयाल रखती है। सुरभि आकाश भईया आप हमारी खिचाई मत किजिये। हाहाहाहा। सुनिए साहिल का थोड़ा अभी दो दिन अच्छे से खयाल रखना हैं डाक्टर अंकल ने कहा हैं।
सुरभि तुम चिंन्ता ना करो हम सब हैं तो साहिल एक दम जल्दी से अच्छा होगा। सुरभि अच्छा भईयां अब फौन रखतीँ हु।

आकाश हा रूको साहिल को फौन देता हु। सुरभि साहिल सुनो अगर रात को कोई प्राब्लम फिल हो तो डरना नहीं हमें फौन कर लैना। और सुनो बोर हुयें तो भी फौन कर लैना। साहिल जी बिल्कुल मैडम जी। सुरभि हाहाहा अच्छा बाय साहिल बाय बाय।। आकाश साहिल देखा तुमने खुद दुर हैं तो हमें बोला उसने भाई साहिल का ख्याल रखना। साहिल जी भाई वो बहुत डरती हैं और बहुत केयर फुल लड़की हैं। उसको जरा भी लापरवाही पंसद नहीं आज डाक्टर अंकल से भी बोल रही थी।
अंकल साहिल जल्दी ठिक होगा ना। भाई इतनी फिकर तो बस एक मां ही करती हैं ।और सुरभि मैरी दोस्त होकर भी वो सब करती हैं।


Www.edmranjit.com
Writing by ranjit choubeay.
25/10/2019

पिज्जा डिलीवरी साहिल विच सुरभि की प्रेम कहानी। Delivery Sahil Witch Surabhi's love story'part(11) 25/10/2019💐

Wednesday, October 23, 2019

एक आईना। पोयम 23/10/2019💐

#EDMranjit
कविता
Www.edmranjit.com 


एक आईना। पोयम 23/10/2019💐

एक आईना की तरह जिंदगी ।
को साफ रखा जाए। 
कुछ खुशियों की तरह गम। 
को भी पास रखा जाए।। 

" शिकायत नहीं करों कभी भगवान से।। 
बेईमानी न करो कभी इंसान से।। 
खुद की तरह औरो  को भी
दिल के पास रखा जाए।। 

" कुछ भटक कर लौट आओ। 
कुछ सीख कर वापसी करो।। 
कुछ चाहत नसीब के बस में नहीं।। 
ये बात समझ कर मान लिया जाए।

" इंसान हर तरफ अब बढ़ रहा हैं।। 
हर राह में तरक्की कुछ कर रहा हैं।। 
यही सोच कर हम सबको अब।। 
बदलाव का युग समझ लिया जाए।

"चिंगारी को भी कम नहीं समझना कभी।। 
वो भी शौला बन जाती हैं हवा की मद्त से। 
आना जाना तो लगा ही रहता है सबका ।।
अब ठहर जाना ही उचित राह बन जाए।। 

"मदत कुदरत प्रकृति की  माया हैं।। 
इम्तिहान जिंदगी की पाठशाला हैं।। 
अपने पराए रिस्तो का गठबंधन हैं।। 
क्यों न इन्हीं को जीवन दर्पण समझा जाए।। 

Www.edmranjit.com

Writing by ranjit choubeay.
23/10/2019

Poem. एक आईना। पोयम 23/10/2019💐



बंसत पंचमी कविता 👏30/01/2020

#EDMranjit बंसत पंचमी कविता👏30/01/2020 बंसत पंचमी कविता  इस माँ के बीना तो संसार अधुरा लगता था। नहीं आती तु तो सब सूना सूना लगता...